International Journal For Multidisciplinary Research

E-ISSN: 2582-2160     Impact Factor: 9.24

A Widely Indexed Open Access Peer Reviewed Multidisciplinary Bi-monthly Scholarly International Journal

Call for Paper Volume 6 Issue 2 March-April 2024 Submit your research before last 3 days of April to publish your research paper in the issue of March-April.

राज्य-राष्ट्र पर दीन दयाल उपाध्याय के विचार

Author(s) Praveen Chaudhry
Country India
Abstract इस लेख में, हम एक मजबूत भारत के गठन की स्पष्ट समझ हासिल करने के लिए पंडित दीनदयाल जी द्वारा प्रतिपादित राष्ट्र और राष्ट्रवाद की अवधारणा पर गहराई से विचार करेंगे। हम एक मजबूत भारत के निर्माण में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका का पता लगाते हैं और भारतीय राष्ट्र, संस्कृति और राष्ट्रवाद के महत्व पर प्रकाश डालते हैं। इसके अलावा, हम भारतीय राष्ट्रवाद की तुलना पश्चिमी देशों से करते हैं, एक व्यापक विश्लेषण प्रदान करते हैं जो हम सभी को अपने राष्ट्र, संस्कृति और राष्ट्रवाद के महत्व की सराहना करने और समझने की अनुमति देता है। हमारे देश के प्रसिद्ध विचारक, दार्शनिक और राजनीतिक सामाजिक कार्यकर्ता पंडित दीनदयाल उपाध्याय जी के व्यक्तित्व ने न केवल युवाओं के लिए प्रेरणा का काम किया बल्कि उन्हें एक नई दिशा भी प्रदान की। दीनदयाल जी राष्ट्रवाद को संस्कृति के चश्मे से समझने के महत्व में दृढ़ विश्वास रखते थे। उन्होंने केवल इसके राजनीतिक या आर्थिक पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय सांस्कृतिक दृष्टिकोण से भारत की आत्मा को समझने की वकालत की। उनके अनुसार किसी भी राष्ट्र की असली पहचान उसकी सांस्कृतिक जड़ों में जाकर ही जानी जा सकती है और इस संबंध में भारत सबसे आगे है।
Keywords राष्ट्र, राजनीतिक, राज्य, समाज, दार्शनिक, सांस्कृतिक
Field Sociology > Politics
Published In Volume 6, Issue 2, March-April 2024
Published On 2024-03-23
Cite This राज्य-राष्ट्र पर दीन दयाल उपाध्याय के विचार - Praveen Chaudhry - IJFMR Volume 6, Issue 2, March-April 2024. DOI 10.36948/ijfmr.2024.v06i02.15362
DOI https://doi.org/10.36948/ijfmr.2024.v06i02.15362
Short DOI https://doi.org/gtn3zh

Share this